Sunday 26/ 05/ 2024 

Dainik Live News24
अपरमुख्य सचिव के के पाठक के लेटरो की उड़ रही हैं धज्जियांजमुई का लाल डॉ. विभूति भूषण को पर्यावरण के क्षेत्र में बेहतर योगदान के लिए मिलेगा सम्मान, बढ़ेगा जमुई का मानविकलांग व्यक्ति ने गिराया वोटप्रखंड पंचायती राज पदाधिकारी उपेन्द्र कुमार को अज्ञात लोगों ने गाड़ी से खींचकर मारा, उपेन्द्र हुए गम्भीर रूप से जख्मीचंदौली बना इतिहास का हिस्सा 16 कलाओं का माहिर बना यह लड़काशेखपुरा के हथियामां गांव में करंट लगने से पति-पत्नी की दर्दनाक मौत से गांव में प्रसरा सन्नाटासेमरी मध्य विद्यालय परिसर में लगा है पानी, बच्चों को हो रही है परेशानीविश्व के चौबीस लाख घरों में एक साथ, एक समय पर संपन्न हुआ गायत्री महायज्ञभारतीय गौ रक्षा वाहिनी ने किया काराकाट लोक सभा क्षेत्र से NDA प्रत्याशी का समर्थनआज शाम बिहार के इस लोकसभा में थम जाएंगे प्रचार प्रसार, 25 मई को होगी मतदान
देशबिहारराज्यरोहतास

मोटे अनाज को लेकर के दिया गया प्रशिक्षण

रोहतास नोखा संवाददाता मंटू कुमार की रिपोर्ट 

नोखा ( रोहताह) नोखा प्रखंड मुख्यालय स्थित ई किसान भवन में मोटे अनाज को लेकर के एकदिवसीय प्रशिक्षण दिया गया। जहां पर उपस्थित महिला कृषकों को प्रशिक्षण देते हुए कृषि विभाग के तकनीकी प्रबंधक श्रीकांत कुमार , कृषि बिशेषज्ञ राजू कुमार और अशोक कुमार द्वारा बताया गया की मोटे अनाज से क्या-क्या फायदे हैं इसकी वैरायटी कौन-कौन सी है।

मिलेट (मोटे अनाज) की प्रमुख वेराइटी बीज क्वालिटी के मिलेट (जवार),बीज क्वालिटी के मिलेट (बाजरा),मिलेट (रागी) बीज क्यालिटी वाले, मिलेट (जवार) बीज को छोड़कर दूसरे प्रकार, मिलेट (बाजरा) बीज को छोड़कर दूसरे प्रकार, मिलेट (रागी) बीज के अलावा अन्य, मिलेट (कैनरी) बीज जैसी क्वालिटी वाले, मिलेट (कैनरी) बीज के अलावा कदन्न फसल (मिलेट) एक पोषण तत्वों से भरपूर अनाज है, जिसके कारण इसको ‘न्युट्री अनाज’ भी कहते हैं।

भारत में मोटे अनाज आधारित चीजों की खाने की माग बढ़ रही है। आमतौर से मिलेट को गरीबों का भोजन के रूप में पहचाना जाता है। आर्थिक रूप से संपन्न लोग इसको खाने से हिचकते रहे हैं।

लगातार बढ़ रही शारीरिक बीमारियों से उपजी चिंता के बाद दुनियाभर में भोजन पर एक बार फिर से गंभीरता से मंथन शुरू हुआ है। अतः यह आज उपलब्ध अनाजों में सबसे स्वास्थ्यप्रद अनाज है। हर एक कदन्न फसलों का अपना-अपना महत्व हैं, जैसे- रागी और बाजरा कैल्शियम और लौह तत्वों से भरपूर होता है।

ज्वार में पोटैशियम और फास्फोरस होता है, जबकि कोदो लौह तत्वों से भरपूर होता है। सारे कदन्न फसलों में आहारीय रेशा बहुतायक मात्रा में होती है। इसलिए हमें सभी तरह के कदन्न फसलों को खाते रहना चाहिए। इसमे प्रोटीन, विटामिनबी-कम्पलेक्स, कैल्शियम, आयरन, मैंगनीज, मैग्नीशियम, फॉस्फोरस जिंक, पौटेशियम, ताँबा और सेलेनियम सहित बहुत से पोषक तत्व होते हैं।

इनमें एंटी-ऑक्सीडेंट फ्लेवोनॉइड्स, पिगमेंट, एंथोसायनिन, सैपोनिन और लिगनिन्स भी पाने जाते हैं. जो स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद होता है। इसलिए कदन्न फसली की “सुपर फूड’ भी कहा जाता है। कुटकी भी एक पारम्परिक फसल है। इसका हमार भोजन में काफी महत्व है। इसकी पौष्टिकता के कारण अन्य अनाज से इसे ऊँचा स्था दिया गया है। इसमें 37-38% आहारीय रेशा पाया जाता है।

कदन्न फसलें का आट स्वाभाविक रूप लस मुक्त होता हो और इससे बने खाद्य उत्पाद चावल और गेहूँ का ए बढ़िया विकल्प होता है। मनुष्यों में लस संवेदनशीलता के बढ़ने के साथ एक विकल्प के रूप में भी मिलेट जाना जा रहा है। कदन्न फसल को दो भागों में बगीक किया गया। मौके पर के कृषक महिला उपस्थित रहे

Check Also
Close