Monday 26/ 02/ 2024 

Dainik Live News24
3 करोड़ के लागत से भोजपुरी फिल्म आ रहा है अभिनेत्री नीलम पांडे और सिंगर नितेश सिंह यादव का जलवाऑल इंडिया चंद्रवंशी युवा एसोसिएशन ने किया प्रखंड का विस्तार:- प्रताप सक्सेना चंद्रवंशीराष्ट्र गौरव सम्मान- 2024 से विभूषित हुए साहित्यकार डॉ. अभिषेक कुमारअरवल जिला में महिला कार्यकर्ताओं को संगठित करना हमारा एकमात्र लक्ष्य: मुन्नी चंद्रवंशीबड़ी खबर कैमूर में भीषण सड़क हादसा 7 लोगों की मौत, पुलिस मामले की कर रही जांचतेलपा पुलिस के नाक के नीचे चल रही थी मिनी गन फैक्ट्री, स्थानीय पुलिस फेल, एसटीएफ को मिली सफलताजहानाबाद लोकसभा क्षेत्र में हो रहा है रेल सुविधाओं का विस्तार सड़क हादसे में एक व्यक्ति की मौतरामपुर चौकी इंचार्ज चकिया मुरारपुर से बबुरी थाना के आसपास एक्सीडेंट गाड़ी चालक को फिल्मी स्टाइल में 15 किलोमीटर दूरी पर दौड़ा कर पकड़ानेहरू युवा केंद्र द्वारा चलाया गया मतदाता जागरूकता अभियान
देशपटनाबिहारराज्य

सीतामढ़ी की बेटी श्वेता सुमन ने बीपीएससी की 68वीं संयुक्त प्रतियोगिता परीक्षा में पहले प्रयास में ही158 रैंक प्राप्त कर अपने जिला का मान बढ़ाया

बिहार राज्य संवाददाता बीरेंद्र कुमार की रिपोर्ट

पटना. बीपीएससी ने 68 वीं संयुक्त प्रतियोगिता परीक्षा का अंतिम परिणाम जारी कर दिया है। परीक्षा में कुल 322 उम्मीदवार सफल हुए हैं। BPSC द्वारा जारी अधिसूचना के मुताबिक,इस परीक्षा में पटना की प्रियांगी मेहता ने टॉप किया है, जिसे राजस्व अधिकारी का पद मिला है। वहीं मेरिट लिस्ट में अनुभव दूसरे, प्रेरणा सिंह तीसरे और अंजली जोशी चौथे स्थान पर रहीं।

वहीं दूसरी तरफ, सीतामढ़ी जिले के दादनचक निवासी और बिहार विधानसभा में असिस्टेंट के पद पर कार्यरत भगवान प्रसाद एवं पूनम कुमारी की पुत्री श्वेता सुमन ने बिहार लोक सेवा आयोग की 68 वीं संयुक्त प्रतियोगिता परीक्षा में परचम लहराया है। श्वेता ने पहले प्रयास में ही 158 रैंक प्राप्त कर अपने जिला सीतामढ़ी को मान बढ़ाया । श्वेता सुमन को सहायक आपदा प्रबंधक पदाधिकारी का पद प्राप्त हुआ हैं ।
श्वेता के इस सफलता से परिवार में हर्ष उल्लास है। वहीं दूसरी तरफ श्वेता को बधाई देने वालों का ताता लगा हुआ है.
श्वेता बचपन से मेधावी रही है और बचपन से ही उनका लक्ष्य प्रशासनिक सेवा में जाकर देश और राज्य की सेवा करना था.उन्होंने बताया कि सफर काफी लंबा था। स्कूल के दिनों से ही मैं पढ़ाई को लेकर काफी सीरियस थी और शुरू से ही दिमाग में था कि सिविल सर्विसेज में जाना है। कक्षा 10 वीं से ही मैं सिविल सर्विसेज की प्रतियोगी परीक्षा के बारे में पढ़ा करती थी। ये मेरा पहला पहला प्रयास था, जिसमें मैंने सफलता हासिल की।
जब श्वेता से उसकी सफलता का राज पूछा गया तब उन्होंने कहा कि निश्चित लक्ष्य निर्धारित कर लगन के साथ तैयारी करेंगे तो सफलता निश्चित मिलेगी।

Check Also
Close