Sunday 26/ 05/ 2024 

Dainik Live News24
अपरमुख्य सचिव के के पाठक के लेटरो की उड़ रही हैं धज्जियांजमुई का लाल डॉ. विभूति भूषण को पर्यावरण के क्षेत्र में बेहतर योगदान के लिए मिलेगा सम्मान, बढ़ेगा जमुई का मानविकलांग व्यक्ति ने गिराया वोटप्रखंड पंचायती राज पदाधिकारी उपेन्द्र कुमार को अज्ञात लोगों ने गाड़ी से खींचकर मारा, उपेन्द्र हुए गम्भीर रूप से जख्मीचंदौली बना इतिहास का हिस्सा 16 कलाओं का माहिर बना यह लड़काशेखपुरा के हथियामां गांव में करंट लगने से पति-पत्नी की दर्दनाक मौत से गांव में प्रसरा सन्नाटासेमरी मध्य विद्यालय परिसर में लगा है पानी, बच्चों को हो रही है परेशानीविश्व के चौबीस लाख घरों में एक साथ, एक समय पर संपन्न हुआ गायत्री महायज्ञभारतीय गौ रक्षा वाहिनी ने किया काराकाट लोक सभा क्षेत्र से NDA प्रत्याशी का समर्थनआज शाम बिहार के इस लोकसभा में थम जाएंगे प्रचार प्रसार, 25 मई को होगी मतदान
उत्‍तर प्रदेशटॉप न्यूज़देशभाषाराज्य

SDM विराग पांडेय की लगातार कार्रवाई जारी, एक और जमीन पर खोज लिया कब्जा

पीडीडीयू नगर तहसील अन्तर्गत कनेरा गांव के एक व्यक्ति ने एसडीएम न्यायालय में सरकारी जमीन को निजी जमीन बताया था। जब उप जिलाधिकारी विराग पांडेय ने जांच कराई तो सरकारी जमीन भीठा के नाम से दर्ज निकली।

 

तहसील क्षेत्र में खोजी जा रही हैं सरकारी जमीनें

तहसीलदार के जांच में निकला भीटा

जानिए कनेरा गांव का क्या है पूरा मामला

चंदौली जिले के पीडीडीयू नगर तहसील अन्तर्गत कनेरा गांव के एक व्यक्ति ने एसडीएम न्यायालय में सरकारी जमीन को निजी जमीन बताया था। जब उप जिलाधिकारी विराग पांडेय ने जांच कराई तो सरकारी जमीन भीठा के नाम से दर्ज निकली। इसके बाद राजस्व संहिता के नियमों के तहत उक्त जमीन को निरस्त कर दिया गया। वहीं अवैध रूप से नामांतरण कराने वालों में एसडीएम के कार्रवाई से खलबली मची है।

आपको बता दें कि सरकारी जमीनों पर नियम विरुद्ध कब्जा करने वालों के खिलाफ तहसील प्रशासन की कार्रवाई लगातार जारी है। एसडीएम विराग पांडेय ने तहसील क्षेत्र के कनेरा गांव की करीब साढ़े तीन हेक्टेयर जमीन को ग्राम सभा के नाम किए जाने का आदेश किया है। इससे अवैध रूप से नामांतरण कराने वालों में खलबली मची है। 

जानकारी में बताया जा रहा है कि कनेरा गांव निवासी छविनाथ में बीते दिनों भूमि प्रबंध समिति को प्रतिवादी बनाते हुए एसडीएम न्यायालय में वाद दाखिल किया था। जब मामले की जांच पड़ताल की गई तो उसमें जिस जमीन को वादी ने निजी जमीन बताया था, उक्त जमीन तहसीलदार की जांच में ग्राम सभा के नाम पर पाई गई। इस पर एसडीएम ने राजस्व परिषद व राजस्व संहिता के नियमों के तहत जारी शासनादेश के अंतर्गत निरस्त कर दिया।

इस संबंध में पीडीडीयू नगर एसडीएम विराग पांडेय ने बताया कि कनेरा गांव के वादी ने सरकारी जमीन को निजी जमीन बताया था, जब जांच की गई तो जमीन भीठा के नाम से दर्ज था। आराजी नंबर 195 का रकबा 1.562 व आराजी नंबर 195 क रकबा 0.360 हे0 को श्रेणी 4 पर  नाम निरस्त कर फिर से भीटा के खाते में दर्ज किया गया।

आपको याद होगा कि उनके द्वारा इसके पहले भी तालाब व सरकारी जमीनों के कब्जे को खोजा गया था और बेदखली की कार्रवाई की गयी है।

चंदौली ब्यूरो चीफ – नितेश सिंह यादव की रिपोर्ट
Check Also
Close