Monday 26/ 02/ 2024 

Dainik Live News24
3 करोड़ के लागत से भोजपुरी फिल्म आ रहा है अभिनेत्री नीलम पांडे और सिंगर नितेश सिंह यादव का जलवाऑल इंडिया चंद्रवंशी युवा एसोसिएशन ने किया प्रखंड का विस्तार:- प्रताप सक्सेना चंद्रवंशीराष्ट्र गौरव सम्मान- 2024 से विभूषित हुए साहित्यकार डॉ. अभिषेक कुमारअरवल जिला में महिला कार्यकर्ताओं को संगठित करना हमारा एकमात्र लक्ष्य: मुन्नी चंद्रवंशीबड़ी खबर कैमूर में भीषण सड़क हादसा 7 लोगों की मौत, पुलिस मामले की कर रही जांचतेलपा पुलिस के नाक के नीचे चल रही थी मिनी गन फैक्ट्री, स्थानीय पुलिस फेल, एसटीएफ को मिली सफलताजहानाबाद लोकसभा क्षेत्र में हो रहा है रेल सुविधाओं का विस्तार सड़क हादसे में एक व्यक्ति की मौतरामपुर चौकी इंचार्ज चकिया मुरारपुर से बबुरी थाना के आसपास एक्सीडेंट गाड़ी चालक को फिल्मी स्टाइल में 15 किलोमीटर दूरी पर दौड़ा कर पकड़ानेहरू युवा केंद्र द्वारा चलाया गया मतदाता जागरूकता अभियान
अरवलदेशबिहारराज्य

ईंट भट्ठों पर छोटे बच्चों से कराया जा रहा है काम

पैसा भी देते हैं कम बाल मजदूर को लेकर गंभीर नहीं हैं अधिकारी

पैसा भी देते हैं कम बाल मजदूर को लेकर गंभीर नहीं हैं अधिकारी

अरवल जिला ब्यूरो बिरेंद्र चंद्रवंशी की रिपोर्ट 

करपी (अरवल) औरंगाबाद एवं अरवल दो जिले के बॉर्डर की आड़ में संचालित ईट भट्टे पर नाबालिक से लिया जा रहा है काम। औरंगाबाद जिले के देवकुंड थाना एवं अरवल जिले के शहर तेलपा थाना क्षेत्र में संचालित इंट भट्टों पर नाबालिक बच्चो ट्रैक्टर से ईट उतारने का काम कर रही है। यह दृश्य मदद का नहीं है। बल्कि अपनी भूख को मिटाने के लिए मजदूरी कर रही है। ईंट भट्टे पर काम करने वाले इसके परिजन मजदूरी करवा रहे हैं। जिसे देखकर समाज के नैतिकता साथ-साथ पुलिस प्रशासन पर भी सवालिया निशान प्रश्नचिन्ह खड़ा होता है। जिनके हाथों में कलम कॉपी होना चाहिए। वह कड़ाके की ठंड में लहूलुहान हाथों से ईंट उतारने का काम कर रही है। इस मामले में सरकार लाख दावा कर ले कि नाबालिग एवं अवयस्क बच्चों से काम लेना नियम के उल्लंघन जुर्म है। लेकिन सत्य इससे परे है। सरकार के द्वारा प्रतिदिन अध्यादेश जारी किया जाता है कि 14 वर्ष से कम उम्र वाले बच्चों से काम लेना संगीन अपराध है। और इसे रोकने के लिए जागरूकता के साथ संबंधित पदाधिकारी भी नियुक्त किए गए हैं। काश ऐसे बच्चों के लिए न तो सरकारी नीति और नाहीं सामाजिक परिवेश चिंतित है। यही कारण है कि इनके लिए शिक्षा का रास्ता साफ नहीं हो सका है। नैतिकता या हमारी व्यवस्था पर ऐसे बच्चे प्रश्न पूछते हैं। हालांकि इसे रोकने के लिए सरकारी एजेंसियों के अलावे परिजन को भी जिम्मेवारी बनती है। फिर भी सच यह है कि इनके परिजन पर रूढ़िवादिता इस कदर हावी है कि बचपन से ही इन्हें पेट के भरने एवं भूख मिटाने के लिए एकमात्र उपाय बताया जाता है। अपनी किस्मत को दुहाई देने वाले लोगों को जागरूक करने की आवश्यकता है। लेकिन हमारी एवं आपकी व्यवस्था इनके गरीबी पर उपहास उड़ा देती है और किस्मत का तकाजा देकर इनकी समस्याओं को नजरअंदाज कर देती है। परिणाम स्वरूप इस तरह के बच्चे से काम लेना लोग मजदूरी नहीं योगदान मान लेते हैं।

Check Also
Close