Sunday 26/ 05/ 2024 

Dainik Live News24
अपरमुख्य सचिव के के पाठक के लेटरो की उड़ रही हैं धज्जियांजमुई का लाल डॉ. विभूति भूषण को पर्यावरण के क्षेत्र में बेहतर योगदान के लिए मिलेगा सम्मान, बढ़ेगा जमुई का मानविकलांग व्यक्ति ने गिराया वोटप्रखंड पंचायती राज पदाधिकारी उपेन्द्र कुमार को अज्ञात लोगों ने गाड़ी से खींचकर मारा, उपेन्द्र हुए गम्भीर रूप से जख्मीचंदौली बना इतिहास का हिस्सा 16 कलाओं का माहिर बना यह लड़काशेखपुरा के हथियामां गांव में करंट लगने से पति-पत्नी की दर्दनाक मौत से गांव में प्रसरा सन्नाटासेमरी मध्य विद्यालय परिसर में लगा है पानी, बच्चों को हो रही है परेशानीविश्व के चौबीस लाख घरों में एक साथ, एक समय पर संपन्न हुआ गायत्री महायज्ञभारतीय गौ रक्षा वाहिनी ने किया काराकाट लोक सभा क्षेत्र से NDA प्रत्याशी का समर्थनआज शाम बिहार के इस लोकसभा में थम जाएंगे प्रचार प्रसार, 25 मई को होगी मतदान
उत्‍तर प्रदेशटॉप न्यूज़देशभाषाराज्य

धड़ल्ले से हो रहा मिलावटी दूध का कारोबार, हर दिन मारे जाने चाहिए छापे

कई क्षेत्रों में इन दिनों मिलावटी दूध का कारोबार जोरों से फल फूल रहा है। हर दिन इसके लिए छापेमारी की जरूरत है। लेकिन संबंधित विभाग के जिम्मेदार चुप्पी साधे हुए हैं।

 

प्रतिदिन बेचा जा रहा सिंथेटिक दूध

स्वास्थ्य पर पड़ रहा असर

गर्मी के मौसम में बढ़ गई दूध की मांग

कारोबारियों की चांदी

सिंथेटिक दूध के लगातार सेवन से किडनी खराब होने का खतरा

चंदौली जिले के कई क्षेत्रों में इन दिनों मिलावटी दूध का कारोबार जोरों से फल फूल रहा है। हर दिन इसके लिए छापेमारी की जरूरत है। लेकिन संबंधित विभाग के जिम्मेदार चुप्पी साधे हुए हैं। ऊंचे दामों पर सिंथेटिक व मिलावटी दूध प्रतिदिन सैकड़ों लीटर बाजारों में              पभोक्ताओं को धड़ल्ले से बेचा जा रहा है।

आपको बता दें कि गर्मी का मौसम होने के कारण दूध की मांग बढ़ जैयै करती है, लेकिन बाजार व आसपास क्षेत्र में रहने वाले लोगों को दूध के नाम पर मीठा जहर बेचा जा रहा है। वहीं घर-घर में पाउडर व रिफाइंड से तैयार दूध सप्लाई की जा रही है। मिलावटी दूध के कारोबार से आमजन की सेहत का खतरा बढ़ रहा है। आरोप है कि नकली दूध का जांच नही की जा रही है। 

बावजूद इसके खाद्य अधिकारी इस और ठोस कार्रवाई भी नहीं कर रहे हैं। जिससे आमजन की जिंदगी से खिलवाड़ किया जा रहा है। अगर जल्दी ही स्थानीय प्रशासन ने इससे रोकने के लिए ठोस कदम नहीं उठाया गया तो इसके गंभीर परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं। 

इस संबंध में चिकित्सा अधिकारी का कहना है कि सिंथेटिक दूध लगातार पीने से किडनी पर प्रभाव पड़ता है। इसके लगातार सेवन से किडनी खराब भी हो सकती है और कई पेट संबंधी समस्याएं हो सकती हैं।

 

चंदौली ब्यूरो चीफ – नितेश सिंह यादव की रिपोर्ट

 

Check Also
Close