Wednesday 24/ 07/ 2024 

Dainik Live News24
बजट से शिक्षा और स्कील को मजबूतीरक्तदान शिविर का किया गया आयोजनराष्ट्रीय प्रसारण दिवस पर पर्यावरण भारती द्वारा किया गया वृक्षारोपण बजट विकसित भारत के लिए लाभकारी बजट है, इसमें बिहार को मिला है विषेश पैकेजलोक स्वस्थ अभियंत्रण विभाग अरवल की लापरवाही के आलम ये है की गांवों में चापाकाल बिगड़ा हुआ है पर ये विभाग के कान पर जूं नहीं रेंग रहादावथ सीएचसी में स्टॉप डायरिया आभियान की हुईं शुरुआतपूर्व मध्य रेल के महाप्रबंधक (GM) छात्रसाल सिंह ने की CM नीतीश कुमार, राज्यपाल राजेन्द्र विश्वनाथ अर्लेकर से शिष्टाचार मुलाकातअखंड हर कीर्तन का हुआ समापनशारेबाद गांव स्थित मैकानीक गैराज से अपाची बाइक की चोरी पंचायत भवन में नही पहुँचते पंचायत कर्मी लोग परेशान
पटनाबिहारराज्य

यूनीवार्ता के ट्रांसमिशन सुपरवाईजर रसिक लाल हुए सेवानिवृत्त

बिहार राज्य संवाददाता बीरेंद्र कुमार की रिपोर्ट 

पटना, भारत की अग्रणी संवाद एजेंसी यूनाईटेड न्यूज ऑफ इंडिया (यूएनआई) के ट्रांसमिशन सुपरवाईजर रसिक लाल आज सेवानिवृत्त हो गए ।

      श्री रसिक लाल ने वर्ष 1984 में यूनीवार्ता में अपनी सेवा शुरू की। राजधानी पटना के बोरिंग रोड स्थित यूनीवार्ता कार्यालय में रसिक लाल का विदाई समारोह आयोजित किया गया। इस अवसर पर यूनीवार्ता पटना के ब्यूरो प्रमुख श्री शिवाजी और अन्य कर्मचारियों ने श्री रसिक लाल के सुखद भविष्य की कामना की।

       ब्यूरो प्रमुख श्री शिवाजी ने कहा कि यूनीवार्ता के सभी कर्मचारी एक टीम के रूप में काम करते हैं और कंपनी के प्रत्येक व्यक्ति का सम्मान करते हैं। श्री रसिक लाल ने 40 वर्ष के कार्यकाल में पूरी निष्ठा, समर्पण और इमानदारी के साथ अपनी सेवाएं दी ।

आपके लिए आगे सीखने को बहुत कुछ है इसलिए ध्यान केंद्रित करें और निरंतर प्रयास करें। आप अपने भविष्य के प्रयासों में ज़रूर सफल होंगे।

       इस अवसर पर श्रीमती रजनी शंकर, कमलकांत सहाय, प्रेम कुमार, रमेश प्रसाद, रसिक लाल, अभय नाथ झा और रसिक लाल की पत्नी उर्मिला देवी समेत कई लोग मौजूद थे।

      श्री रसिक लाल ने कहा, “मैं आभारी हूं कंपनी के सभी सहयोगियों का जिन्होंने मेरा दिल से साथ दिया। यूनीवार्ता के साथ काम करते मुझे 40 साल हो गए हैं लेकिन ऐसा लगता है कि इस कंपनी में मैं कल ही शामिल हुआ था।

मेरा यूनीवार्ता के साथ कभी ना टूटने वाला संबंध विकसित हो चुका है। आज मैं थोड़ा दुखी भी हूं क्योंकि मुझे आप सभी की और यूनीवार्ता के दोस्ताना माहौल की बहुत याद आएगी।

Check Also
Close