Wednesday 24/ 07/ 2024 

Dainik Live News24
बजट से शिक्षा और स्कील को मजबूतीरक्तदान शिविर का किया गया आयोजनराष्ट्रीय प्रसारण दिवस पर पर्यावरण भारती द्वारा किया गया वृक्षारोपण बजट विकसित भारत के लिए लाभकारी बजट है, इसमें बिहार को मिला है विषेश पैकेजलोक स्वस्थ अभियंत्रण विभाग अरवल की लापरवाही के आलम ये है की गांवों में चापाकाल बिगड़ा हुआ है पर ये विभाग के कान पर जूं नहीं रेंग रहादावथ सीएचसी में स्टॉप डायरिया आभियान की हुईं शुरुआतपूर्व मध्य रेल के महाप्रबंधक (GM) छात्रसाल सिंह ने की CM नीतीश कुमार, राज्यपाल राजेन्द्र विश्वनाथ अर्लेकर से शिष्टाचार मुलाकातअखंड हर कीर्तन का हुआ समापनशारेबाद गांव स्थित मैकानीक गैराज से अपाची बाइक की चोरी पंचायत भवन में नही पहुँचते पंचायत कर्मी लोग परेशान
टॉप न्यूज़बिहारराज्यरोहतास

महिलाओं ने रखा वट सावित्री व्रत, सुनी कथा

रोहतास दावथ संवाददाता चारोधाम मिश्रा की रिपोर्ट

दावथ (रोहतास) सोमवती अमावस्या पर विवाहित महिलाओं ने अपने पति की लंबी आयु के लिए वट सावित्री व्रत किया।

महिलाएं पूजा की थाल लेकर बरगद के पेड़ के नीचे पहुंचीं और वटवृक्ष की पूजा अर्चना करते हुए जल, अक्षत, कुमकुम से पूजा अर्चना की।

इसके बाद लाल मौली धागे से वृक्ष के चारों और घूमते हुए 108 बार परिक्रमा लगाते हुए महिलाओं द्वारा सावित्री की कथा सुनी गई।

धार्मिक ग्रंथों के अनुसार पीपल की तरह वटवृक्ष में भी मां लक्ष्मी का वास माना जाता है। कथा अनुसार जब यमराज सत्यवान के प्राण ले जाने लगे तो सावित्री भी उनके पीछे-पीछे चलने लगी थी।

उसकी पति के प्रति निष्ठा को देखकर यमराज ने आज ही के दिन वरदान मांगने को कहा जिस पर सावित्री ने एक वरदान में सौ पुत्रों की माता बनना मांगा और जब उन्हें वरदान दिया तो सावित्री ने कहा कि वह पतिव्रता स्त्री है और बिना पति के मां नहीं बन सकती।

इसका एहसास यमराज को हुआ और उन्हें लगा कि मेरे द्वारा दिए गए वरदान से मैं स्वयं गलती कर बैठा हूं और उन्होंने सत्यवान के प्राण को फिर से वापस उनके शरीर में वापस कर दिया।

पंडित विजय कुमार मिश्र के अनुसार वट वृक्ष की पूजा करने से भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी प्रसन्न होती है। पति दीर्घायु होते हैं साथ ही जिस स्त्री को पुत्र नहीं होता है उसे पुत्र की भी प्राप्ति हो जाती है।

Check Also
Close