Monday 26/ 02/ 2024 

Dainik Live News24
3 करोड़ के लागत से भोजपुरी फिल्म आ रहा है अभिनेत्री नीलम पांडे और सिंगर नितेश सिंह यादव का जलवाऑल इंडिया चंद्रवंशी युवा एसोसिएशन ने किया प्रखंड का विस्तार:- प्रताप सक्सेना चंद्रवंशीराष्ट्र गौरव सम्मान- 2024 से विभूषित हुए साहित्यकार डॉ. अभिषेक कुमारअरवल जिला में महिला कार्यकर्ताओं को संगठित करना हमारा एकमात्र लक्ष्य: मुन्नी चंद्रवंशीबड़ी खबर कैमूर में भीषण सड़क हादसा 7 लोगों की मौत, पुलिस मामले की कर रही जांचतेलपा पुलिस के नाक के नीचे चल रही थी मिनी गन फैक्ट्री, स्थानीय पुलिस फेल, एसटीएफ को मिली सफलताजहानाबाद लोकसभा क्षेत्र में हो रहा है रेल सुविधाओं का विस्तार सड़क हादसे में एक व्यक्ति की मौतरामपुर चौकी इंचार्ज चकिया मुरारपुर से बबुरी थाना के आसपास एक्सीडेंट गाड़ी चालक को फिल्मी स्टाइल में 15 किलोमीटर दूरी पर दौड़ा कर पकड़ानेहरू युवा केंद्र द्वारा चलाया गया मतदाता जागरूकता अभियान
देशपटनाबिहारराज्य

महाज्ञानी तेजस्वी यादव बिना कागज देखे GDP का फुल फॉर्म लिख दें तो हम मान जाएंगे: प्रशांत किशोर

पटना: जन सुराज के सूत्रधार प्रशांत किशोर के जीडीपी वाले बयान पर तंज कसा है। वहीं कहा कि जो स्कूल नहीं गया, फेल हुआ, पिछली बेंच पर बैठा वही यहां का नेता है। वही बता रहा है कि यहां विकास हो रहा है। उसे विकास लिखने नहीं आता है कि इस शब्द को लिखने में बड़ी ई की मात्रा का प्रयोग होता है या छोटी इ का। अभी आपने कुछ दिन पहले देखा होगा कि यहां के नेता तेजस्वी यादव ने कहा था कि GDP तो सबसे ज्यादा बिहार की है, उनको ये समझ ही नहीं है कि GDP है क्या? अगर, बिहार का GDP सबसे ज्यादा है, तो 28वें नंबर पर कौन सा राज्य है? GDP के मामले में बिहार देश के सबसे पिछले पायदान 28वें नंबर पर है पर पूर्व उप-मुख्यमंत्री कैमरे पर कह रहे हैं देश में सबसे ज्यादा GDP तो हम लोगों का है। हुआ ये होगा कि किसी अफसर ने बताया होगा कि सर GDP में ग्रोथ हम लोगों का सबसे बेहतर है। तेजस्वी यादव को GDP और GDP में ग्रोथ का अंतर ही समझ में नहीं आया और कह दिया कि देश में हमारा GDP सबसे बेहतर है। जब आप विद्यालय में नहीं जाते हैं और जीवन में पढ़े ही नहीं तो आपकी यही दशा होगी।

तेजस्वी यादव की बस यही पहचान है कि वो लालू के लड़के हैं: प्रशांत किशोर

प्रशांत किशोर ने आगे कहा कि जैसे सरकार का एक मेंडेट है कि नेताओं को अपनी संपत्ति का ब्योरा देना होता है, उसी प्रकार यह भी जारी करना चाहिए कि नेताओं ने कौन सी किताब पढ़ी है। अगर मेरा बस चले तो एक नियम यह भी जारी करना चाहिए कि नेताओं ने पिछले एक साल में कौन सी किताब पढ़ी है उसके बारे में बताएं। इन लोगों को क्या मतलब है इससे, उलूल-जलूल बातें की, लोगों को जाति-धर्म में बांटा, पैसा, शराब, बालू का काम किया, पैसा वसूल कर टिकट बांटा, जाति के नाम पर लोग गरीबी-मजबूरी में वोट दे देते हैं उसके बाद नेता बनकर ज्ञान दे रहा है। तेजस्वी यादव अगर बिना कागज देखे जीडीपी का फुल फॉर्म लिख दें तो हम मान जाएंगे। खड़े होकर जीडीपी के बारे में बता दें कि ये होता क्या है, कम है, ज्यादा है उसके बारे में छोड़ दीजिए। अपने सारे सलाहकारों की मदद लेने के बाद भी अगर तेजस्वी यादव बिना कागज देखे हुए जीडीपी को परिभाषित कर दें कि जीडीपी होता क्या है, जीडीपी का कैल्कूलेशन होता कैसे है, तो हम ये काम छोड़कर तेजस्वी यादव का झंडा ले लेंगे। खाली वह 4 दिन तैयारी करके कैमरे पर आकर बता दें कि जीडीपी जोड़ा जाता है। तेजस्वी यादव की क्या पहचान है, वो नौंवी फेल आदमी है।

Check Also
Close