Wednesday 24/ 07/ 2024 

Dainik Live News24
बजट से शिक्षा और स्कील को मजबूतीरक्तदान शिविर का किया गया आयोजनराष्ट्रीय प्रसारण दिवस पर पर्यावरण भारती द्वारा किया गया वृक्षारोपण बजट विकसित भारत के लिए लाभकारी बजट है, इसमें बिहार को मिला है विषेश पैकेजलोक स्वस्थ अभियंत्रण विभाग अरवल की लापरवाही के आलम ये है की गांवों में चापाकाल बिगड़ा हुआ है पर ये विभाग के कान पर जूं नहीं रेंग रहादावथ सीएचसी में स्टॉप डायरिया आभियान की हुईं शुरुआतपूर्व मध्य रेल के महाप्रबंधक (GM) छात्रसाल सिंह ने की CM नीतीश कुमार, राज्यपाल राजेन्द्र विश्वनाथ अर्लेकर से शिष्टाचार मुलाकातअखंड हर कीर्तन का हुआ समापनशारेबाद गांव स्थित मैकानीक गैराज से अपाची बाइक की चोरी पंचायत भवन में नही पहुँचते पंचायत कर्मी लोग परेशान
जमुईटॉप न्यूज़देशबिहारराज्य

केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी मनरेगा योजना में मची है लूट, बिना बोर्ड लगाए हो रहा है काम

गुणवत्ता के अनुरूप नहीं किया जा रहा है काम, घटिया सामग्री से नाला का हो रहा है निर्माण

जमुई जिला ब्यूरो बिरेंद्र कुमार की रिपोर्ट 

गिद्धौर ।प्रखंड के रतनपुर पंचायत के वार्ड नंबर 7 में मनरेगा की क्रियान्वित योजनाओं में लूट की होड़ मची हुई है। इसमें पीओ से लेकर पंचायत के मुखिया यहां तक की रोजगार सेवक की मिली भगत से इनकार नहीं किया जा सकता है।

यही वजह है कि क्रियान्वित योजनाओं में योजना स्थल पर बोर्ड नहीं लगाया जा रहा है। बोर्ड नहीं लगने पर प्राक्कलन में आसानी से चोरी की जा सकती है। जबकि सरकार का स्पष्ट आदेश है कि किसी भी योजना के कार्य स्थल पर सूचना बोर्ड जरूर लगाएं।

उस बोर्ड में योजना का नाम,योजना की प्रकलित राशि, संवेदक का नाम आदि का जिक्र अनिवार्य रूप से रहनी चाहिए।जानकारी के अनुसार गिद्धौर प्रखंड में 20 से अधिक गांव में महात्मा गांधी रोजगार गारंटी योजना मनरेगा के तहत योजनाएं हो रही है।

यहां पैन सफाई तालाब खुदाई अलंग पर मिटटी भराई के कार्य के अलावे सहित सौ से अधिक योजनाओं का संचालन हो रहा है। बता दे कि कार्यस्थल पर योजना का बोर्ड नहीं लगाए जाने से सरकारी राशि की लूट करने की आजादी है।

ऐसे में आम लोगों को योजना और प्राक्कलन की जानकारी नहीं मिल पाती है।पंचायत से लेकर प्रखंड तक के विभागीय कर्मी एवं पदाधिकारी की मेल से सरकारी राशि की लूट का जरिया बना लिया है।

ऐसे में ग्रामीण मजदूरों के पलायन को रोकने के लिए केंद्र प्रायोजित मनरेगा योजना मजदूरों को घर पर ही मनरेगा उपलब्ध कराने और चेहरे पर खुशहाली लाने के बजाय लूट, खसोट का जरिया बनकर रह गया।

यह योजना मुखिया पंचायत समिति सदस्य मनरेगा पीओ प्राक्कलन पदाधिकारी सहित अन्य के लिए कामधेनु बनकर रह गया है।

Check Also
Close